नवरात्रि क्यों मनाया जाता है? Navratri Kyu Manaya Jata Hai

Navratri Kyu Manaya Jata Hai :- आज के इस नए आर्टिकल में आपका स्वागत है और दोस्तों वर्तमान समय में नवरात्रि का शुभ अवसर चल रहा है और नवरात्रि के इस शुभ अवसर पर बहुत से लोग माता रानी की मूर्तियाँ अपने गाँव मे अपने घर में रखते है और पूरी नवरात्रि में माता रानी की पूजा अर्चना करते हैं क्योंकि यह हिन्दू समाज के लोगों के लिए एक बड़ा अवसर होता है और लोग बड़ी ही श्रद्धा पूर्वक नवरात्रि का त्योहार मनाते हैं।

नवरात्रि के इस अवसर पर बहुत से भी लोगों के मन में ये सवाल जरूर आया होगा की आखिर नवरात्रि क्यों मनाई जाती है इसके अलावा बहुत से स्टूडेंट्स के परीक्षाओं में भी नवरात्रि पर निबंध लिखने के लिए आता है जिससे की नवरात्रि के बारे में सही ज्ञान होना बहुत जरूरी है। इसीलिए दोस्तों आज का यह पोस्ट आप पूरा अंत तक जरूर पढ़ना क्योंकि आज के इस पोस्ट में हम नवरात्रि का पर्व क्यों मनाया जाता है इसके बारे में विस्तार से जानने वाले हैं।

नवरात्रि क्या है?

नवरात्रि का मतलब संस्कृत में ‘नौ रातें’ होता है। और इस नवरात्रि के दरमियान सभी देवियों की पूजा अर्चना की जाती है जिससे की देवी माँ की कृपा उनके भक्त जन पर बनी सदा रहे। नवरात्रि का यह पवन पर्व नौ दिन तक लगतार रहता है और इस पर्व पर हिन्दू समाज के लोग देवी माँ की मूर्तियाँ रखते है और नौ दिन लगातार देवी माँ का पूजा करते हैं।

इस पर्व पर गाँव के लोग बड़ी ही खुशी से देवी की पूजा अर्चना में शामिल होते है और एक साथ पूजा अर्चना करते हैं। और बहुत से लोग दूर दूर तक भी देवी माँ के इस भव्य को देखने व घूमने जाते हैं। यह नवरात्रि हर साल दो बार मनाया आता है। साल का दूसरा चैत्र नवरात्र जब मौसम में बदलाव यानी की गर्मी के बाद हल्की हल्की ठंढ की शुरुआत होती है तब मनाया जाता है।

नवरात्रि कब मनाया जाता है?

नवरात्रि का पर्व वर्ष में दो बार आता है एक चैत्र नवरात्र और एक शारदीय नवरात्र होता है। इन दिनों माता रानी की पूजा बहुत ही विधि विधान से की जाती है और इन दिनों माता रानी के सभी भक्तगण एक साथ माता रानी के दरबार में उपस्थित होते हैं और माता रानी की पूजा अर्चना करते हैं।

नवरात्रि हर साल चैत्र के महीने तथा गर्मी के बाद जब हल्का सरद ऋतु की शुरुआत होती है तब मनाया जाता है। और नवरात्रि के इस त्योहार को भारत के अलावा कई अन्य देश के लोग भी बहुत ही श्रद्धापूर्वक मनाते हैं। इन दोनों हजारों की संख्या में माता रानी के भक्तों रैली देखने को मिलती है।

नवरात्रि क्यों मनाया जाता है?

जैसा की हर त्योहार में प्राचीन और धार्मिक कथा होती है जिसके कारण वह त्योहार मनाया जाता है ठीक उसी प्रकार नवरात्रि के त्योहार की पीछे भी एक प्राचीन और धार्मिक कथा है। ऐसा माना जाता है आज से हजारों लाखों साल पहले महिषासुर नें अजेय होने के लिए कठोर तपस्या की थी जिससे देवताओं नें खुश होकर महिषासुर को अजेय होने का वरदान दिया था।

इस वरदान की प्राप्ति के बाद महिषासुर अपनी शक्तियों का गलत इस्तेमाल करने लगा था और सभी देवी देवताओं के ऊपर अत्याचार करना शुरू कर दिया था। महिषासुर के इस अत्याचार से सभी देवी देवता काफी क्रोधित थे जिसे कारण सभी देवी देवता मिलकर माँ दुर्गा की की रचना की और सभी प्रकार की शक्तियां और अस्त्र शस्त्र दिए जिससे की महिषासुर का वध किया जा सके।

इसके बाद माँ दुर्गा और महिषासुर के बीच में नौ दिन का युद्ध छिड़ा और इन नौ दिनों के अंतराल में माँ दुर्गा नें आखिरकार महिषासुर का वध कर दिया। और इसी करना नौ दिन तक माँ दुर्गा की पूजा और अर्चना की जाती है। यह नवरात्रि का त्योहार दशहरा से पहले नौ दिन मनाया जाता है और इसके बाद दशहरा आता है।

और धार्मिक प्रथा के अनुसार यह भी माना जाता है की जब राम और रावण के बीच युद्ध छिड़ा था तब राम नें भी रावण के वध के लिए नौ दिन तक माता रानी के सभी स्वरूपों की पूजा की थी और व्रत रखा था, और दसवें दिन रावण का वध किया था। इसीलिए नौरात्री की बाद दशहरा आता है।

नवरात्रि की पीछे वैज्ञानिक कारण

बहुत सारे वैज्ञानिक नवरात्रि के इस पर्व को वैज्ञानिक रूप से कई अलग अलग कारण भी बताते हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार ऐसा माना जाता है की हर साल दो बार नवरात्रि का पर्व ऋतु संधिकाल में आते हैं यानि की जब ऋतुओं में बदलाव होना शुरू होता है। अब ऐसे में मनुष्य में वात, पित्त, कफ तथा रोग प्रतिरोधक छमता कमजोर हो जाता है मतलब मनुष्य में इम्यून की कमी होने लगती है।

इसी इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए नौ दिन तक माता की पूजा की जाती है जिससे की मनुष्य हर दिन की बागडोर में अपना ज्यादा समय ना देकर कुछ समय अपने आप को एकाग्र रखें जिससे की शरीर मे में इम्यून सिस्टम की ज्यादा मात्रा में रचना हो सके।

नवरात्रि कैसे मनाई जाती है?

जैसा की हम सभी नवरात्रि के समय में अपने गांवों अथवा शहरों में देखते है की माता रानी नौ रूपों की मूर्तियाँ रखी जाती है तथा एक बड़ा सा पंडाल भी बनाया जाता है और उस पंडाल में सभी प्रकार की लाइटें व खूब सारी सजावटें भी की जाती हैं। यह त्योहार पूरे भारत में अलग अलग तरीकों से भी मनाया जाता है।

इन दिनों माता रानी की प्राचीनतम कथा को सुनाया जाता है और माता रानी की आरती भी की जाती है और भी भक्तगण इस समारोह में शामिल होते हैं जिससे की यह भव्य दृश्य देखने में बहुत ही अच्छा लगता है। और माता रानी की पूजन से माता रानी अपने सभी भक्तों के दुख दूर करती हैं।

आखरी शब्द

दोस्तों मुझे पूर्ण विश्वास है की आपको आज का यह पोस्ट (Navratri Kyu Manaya Jata Hai) पसंद आया होगा। आप इस पोस्ट को अपने सभी दोस्तों तथा रिस्तेदारों के साथ अपने सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करना और अगर आपका इस पोस्ट (Navratri Kyu Manaya Jata Hai) से संबंधित किसी भी प्रकार का कोई सा भी सवाल या सुझाव है तो आप इस आर्टिकल के नीचे कमेन्ट भी कर सकते हैं।

1 thought on “नवरात्रि क्यों मनाया जाता है? Navratri Kyu Manaya Jata Hai”

  1. I really love your site.. Great colors & theme. Did you create this site
    yourself? Please reply back as I’m wanting to create my very own blog and would
    love to find out where you got this from or just what the theme is called.
    Thanks!

    Reply

Leave a Comment