कार का आविष्कार किसने किया था? – Car Ka Avishkar Kisne Kiya

Car Ka Avishkar Kisne Kiya :- आज के इस डिजिटल युग में ना जाने ऐसे कितने आविष्कार हो चुके है जिनके बारे में आपने और हमने कभी सोंचा भी ना होगा। लेकिन अगर हम बात करें आज से 80 अथवा 100 साल पहले की तो तब हमे ऐसी टेक्नालॉजी देखने को नहीं मिलती थी, लेकिन फिर ऐसे ऐसे बहुत से महान वैज्ञानिक है वो नए नए खोज में लगे रहते थे जिसका नतीजा यह है की आज हमे बहुत सी ऐसी टेक्नालॉजी देखने को मिलती है जो पुरातत्व के वैज्ञानिकों ने किया है।

ठीक उसी प्रकार जैसे पहले किसी को भी कही पर यात्रा करने के लिए पैदल या बैलगाड़ी, ऊंट तथा कुछ समय बात साइकल से आया जाता करते थे क्योंकि उनके पास आज के जैसे मोटरकार नहीं हुआ करती थी जिससे के उन्हें अपना सफर बैलगाड़ी तथा ऊंटगाड़ी से ही तय करना पड़ता था। लेकिन कुछ ही समय बाद मोटरकार के आविष्कार ने दुनिया बदलने का इतिहास रच दिया।

दोस्तों आज का यह लेख आप पूरा जरूर पढ़ना यह पोस्ट काफी ज्यादा रोचक होने वाला है क्योंकि आज के इस पोस्ट में हम इसी टॉपिक पर बात करने वाले है कि कार का आविष्कार किसने और कब किया था (Motor Car Ka Avishkar Kisne Kiya Tha),

कार का आविष्कार किसने किया था? (Car Ka Avishkar Kisne Kiya Hai)

कार के आविष्कार का श्रेय हम किसी एक व्यक्ति को नहीं दे सकते है क्योंकि इसे कई महान इंजीनियर ने अलग अलग तरीके से इसकी खोज की है और इसके इतिहास की कहानी काफी रोमांचक है। लेकिन अगर हम किसी एक व्यक्ति के बारे में जानें तो कार का आविष्कारक कार्ल बेंज जी हैं इन्होंने ने ही सबसे पहले एक 3 पहिये वाली कार बनाई थी जो की उस समय काफी चर्चे में थी। कार्ल बेंज नें इसे बनाने के बाद अपने दोस्त डेमलर के साथ मिलकर एक छोटी से कार निर्माण की कंपनी की शुरुआत की जो की उस समय यह कंपनी पूरी दुनिया की पहली कर निर्माण कंपनी थी।

इसके अलावा इसके कुछ ही समय बाद हेनरी फोर्ड नामक व्यक्ति नें भी कर का निर्माण किया और उसी निर्माण के बाद ही इन्होंने अपनी एक निजी फोर्ड मोटर कंपनी नाम से एक कंपनी स्थापित कर दी। मिडिल परिवार के लोगों के लिए इनकी कारें काफी सुलभ थी क्योंकि कम दाम में ही इनके द्वारा बनाई गई कारें उपलब्ध कराई जाती थी क्योंकि हेनरी फोर्ड कपनी की कारें उन सभी के लिए बनाई जाती जो की मध्यम वर्ग के लोग भी कार खरीद सकें, और इसी कारण से फोर्ड कंपनी के द्वारा बनाई गई कारें कुछ ही समय में काफी ज्यादा बिकने लगी थी।

वैसे तो कार का आविष्कार कई लोगों ने किया है और अलग अलग तरीके से कार्ड की खोज की है उदाहरण के लिए जैसे की किसी नें इलेक्टिक कार की खोज की है तो किसी नें दूसरे तरीके की लेकिन इसके अलावा आपकी जानकारी के लिए बता दूँ कि पूरी दुनिया में पेट्रोल तथा डीजल से चलने वाली कार आविष्कार सर्वप्रथम अमेरिका के इंजीनियर चार्ल्स ढुरेया नें की थी। इस इंजीयर द्वारा बनाया गया कार दुनिया की सबसे पहली कार थी जो ईंधन में पेट्रोल तथा डीजल से चलती थी।

कार के बारे में –

दुनिया में कार के आविष्कार नें दूर बसे गाँव शहर की दूरी काफी कम कर दी है क्योंकि वर्षों पहले जब कार्ड की खोज नहीं हुई थी तब लोग पैदल या बैलगाई, ऊंट से जाया करते थे जिसमें काफी समय लगता था लेकिन कार्ड के आविष्कार नें पूरी दुनिया बदल दी है और अब किसी को भी कितनी भी दूर जाने के लिये वो कार जैसे वाहन का प्रयोग करके काफी सावधानी व समय से पहुँच जाते हैं।

इस आविष्कार नें लोगों की कई मुसीबते कर कर दी है जैसे की समय की बचत, क्योंकि आपको तो पता ही है की आज के समय में किसी के पास इतना समय नहीं है की वही उंटगाड़ी, बैलगाड़ी अथवा पैदल यात्रा कर सकें। और कार का आविष्कार होने से पहले लोगों के लिए मात्र यह एक सपना था जिसे महान इंजीनियरों ने सच कर दिखाया है।

भारत देश मे कार 19वी सदी में आया था जब भारत पर अंग्रेज शासक राज कर रहे थे और उस समय कार कुछ गिने चुके लोगों के पास ही हुआ करती थी क्योंकि उस सभी के हालत के बारे में आप अच्छे से सोंच सकते है की उस समय कार लेना बहुत ही कम लोगों के बस की थी। आजादी के पहले भी तथा आजादी के बाद भी ऐसी कारें सिर्फ गिने चुके नेताओं के पास ही हुआ करती थी। उस समय एम्बेसडर कार का काफी प्रचलन था और यही कार का निर्माण ज्यादा किया जाता था।

इसे भी पढ़ें –

FAQ

कार का आविष्कार कब हुआ था?

भारत के पहले कार आविष्कार कार्ल बेंज जो की जर्मनी के एक महान इजीनियर थे इन्होंने सन 1885 में पहली कार का निर्माण किया था।

भारत की पहली कार कब बनी?

भारत में सबसे पहले क्रॉम्पटन ग्रीव्स अंग्रेज मिस्टर फोस्टर के पास थी जो की अंग्रेज थे, लेकिन इसके कुछ ही समय बाद भारत के पहले नागरिक जमशेदजी टाटा के पास भी कार हो गई और इस तरह से जमशेदजी टाटा जी भारत के पहले कार रखने वाले व्यक्ति बन गए।

दुनिया की सबसे महंगी कार कौन सी है?

दुनिया की सबसे महंगी कार रोल्स रॉयल बोट टेल (Rolls-Royce Boat Tail) है। इसकी कीमत वर्तमान समय में 206 करोड़ रुपए है।

सबसे पहले कार का आविष्कार किसने किया था?

सबसे पहले कार का आविष्कार कार्ल बेंज नें किया था लेकिन सर्वप्रथम पेट्रोल व डीजल से चलने वाली कार का आविष्कार अमेरिका के महान इंजीनिअर चार्ल्स ढुरेया नें किया था।

सबसे पहली तथा सबसे सस्ती भारतीय कार का नाम क्या है?

भारत में सबसे पहले तथा सबसे सस्ती कार टाटा नैनो जो की टाटा मोटर्स कंपनी के द्वारा निर्मित गई थी। इस कार का दाम मात्र 1 लाख रुपए रखा गया था जिससे की माध्यम परिवार के लोग भी इसे खरीद सके और सुलभ यात्रा कर सकें।

आखरी शब्द –

दोस्तों मुझे आशा है की आपको आज का यह पोस्ट (Car Ka Avishkar Kisne Kiya) पसंद आया होगा, अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया है और इस पोस्ट में कुछ भी अच्छा लगा हो तो आप इसे अपने सभी दोस्तों तथा रिस्तेदारों को अपने सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करना तथा अगर आपका इस पोस्ट से संबंधित कोई सवाल या सुझाव है तो इस आर्टिकल के नीचे कमेन्ट भी कर सकते हैं। आपके प्रश्नों का उत्तर देने में हमें काफी खुशी होगी।

4 thoughts on “कार का आविष्कार किसने किया था? – Car Ka Avishkar Kisne Kiya”

  1. You have a great site and content, I’m glad you liked it here.

    Reply

Leave a Comment