ATM Full Form in Hindi

ATM Full Form in Hindi :- एटीएम के आविष्कार से पहले लोग पैसा निकालने के लिए तमाम तरह के फॉर्म फिल करते और घंटों बैंकों में लाइन में खड़े रहते है इससे समय की हानी के साथ साथ अगर किसी भी पैसा नहीं मिलता था तो कई चक्कर भी बैंकों के लगाने पड़ते थे। लेकिन आज के समय में ATM के आविष्कार ने वर्तमान समय में अपनी बहुत बड़ी भूमिका निभाई है।

अब जब भी किसी भी व्यक्ति को अचानक से पैसों की आवश्यकता होती है वह तुरंत atm के माध्यम से पैसे निकाल सकता है इसके लिए बैंकों के चक्कर काटने की आवश्यकता बिल्कुल भी नहीं है। वैसे तो सभी लोग एटीएम के बारे में अच्छे से जानते हैं लेकिन काफी कम लोगों को ही पता है की ATM का फुल फॉर्म क्या होता है?

इसीलिए दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम एटीएम से संबंधित जितनी भी जानकारी है इसी आर्टिकल में जानने वाले हैं आप इस पोस्ट को ध्यानपूर्वक पूरा अंत तक जरूर पढ़ना। और यह पोस्ट पढ़ने के बाद अगर आपका कोई सवाल अथवा सुझाव है तो आप इस पोस्ट के नीचे कमेन्ट करके भी पूछ सकते हैं।

ATM क्या है?

ATM एक ऐसी इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जिसका इस्तेमान बैंकों के द्वारा किया जाता है जिसके मध्यान से बैंक खाता धारक अपने बैंक में जमा राशि को किसी भी समय कहीं पर भी निकाल सकता है। इसके लिए उस खाता धारक को किसी भी प्रकार से ना तो बैक में लंबी लाइन लगाने की जरूरत ही किसी भी प्रकार के फॉर्म फिल करना है।

आज के समय में atm मशीन लगभग हर जगह देखने को मिल जाती है जिससे कोई भी व्यक्ति बड़ी ही आसानी से अपने जरूरत के समय पैसों की निकासी कर सकता है।

ATM Full Form in Hindi

ATM Ka Full Form in Hindi – स्वचालित टेलर मशीन

ATM Full Form in English – Automated Teller Machine

ATM Full Form in Banking – Automated Teller Machine

ATM Full Form in Computer – Asynchronous Transfer Mode

एटीएम के प्रकार – Types of ATM in Hindi

मुख्यतः एटीएम 2 प्रकार के होते हैं जो की निम्नलिखित हैं –

  1. Leased Line ATM Machine
  2. Dial-Up ATM Machine

ATM का आविष्कार किसने किया था?

कड़ी मेहनत के बाद एटीएम मशीन का आविष्कार जॉन शैफर्ड बैरन नें किया था। John Shepherd Barron का जन्म 23 June सन 1925 शिलांग में हुआ था। इनके द्वारा बनाई गई यह atm मशीन लंदन के बार्कलेज बैंक की एक शाखा में लगाई गई थी। उस समय इस मशीन से पैसे निकालने के लिए एक कार्ड की जरूरत होती थी जो की बैंक द्वारा दी जाती थी

उस बैंक द्वारा दिए गए उस कार्ड के माध्यम से ग्राहक एक ही बार पैसे निकाल सकता था क्योंकि वह कार्ड एटीएम मशीन में डालने के बाद बाहर नहीं आता था और दोबारा पैसे निकालने के लिए दूसरे कार्ड का इस्तेमाल करना पड़ता था। और सुविधा को बैंक उपलब्ध कराती थी।

ATM का आविष्कार कब हुआ था?

यह बात सन् 1965 की है जब जॉन शैफर्ड एक बार एक शॉप पर बैठे थे और उन्होंने वहाँ पर एक चाकलेट बार मशीन को देखा और उसे देखने के बाद उन्हें एक पैसे निकालने की मशीन बनाने का आइडिया आया। जिस काम पर वह मन लगन से लग गए और फिर उन्होंने atm मशीन का आविष्कार किया। और इनके द्वारा बनाई गई यह atm मशीन पहली बार 27 जून, 1967 में लंदन के बार्कलेज बैंक द्वारा लगाया गया था।

ATM के फायदे क्या हैं?

एटीएम के इन्वेन्शन से हमे कई सारे लाभ मिले है और इस सुविधा के माध्यम से अगर आपको अचानक पैसों की जरूरत पड़ जाती है तो आप बड़ी ही आसानी से पैसे निकाल सकते हैं। तो आईए एटीएम के कुछ फाइदों के बारे मे जानते हैं।

  1. atm मशीन का सबसे बड़ा फायदा तो यह है की आप किसी भी समय कहीं पर भी अपने बैंक खाते से पैसे निकाल सकते हैं।
  2. ATM के माध्यम से आप अपने बैंक खाते की जमा राशि भी चेक कर सकते हैं।
  3. जैसा की हम सभी अच्छे से जानते हैं की बैंकों में समय अनुसार छुट्टियाँ भी रहती है जिससे कारण हम उस दिन बैंकों से पैसों की निकासी नहीं कर सकते हैं लेकिन ATM मशीन के द्वारा आप किसी भी दिन किसी भी समय पैसों की निकासी कर सकते हैं।
  4. ATM के द्वारा हर दिन 24 Hours की सुविधा उपलब्ध होती है।
  5. एटीएम मशीन बैंक के कर्मचारियों के कार्य को और भी आसान बना देता है।
  6. ATM मशीन पूरी तरह से सुरक्षित व सरल तरीके से पैसों की निकासी करता है।

ATM के बारे में रोचक कुछ बातें

  1. भारत में सबसे पहला atm मशीन भरतिए स्टेट बैंक नें बनवाया था जिसका नाम फ्लोटिंग Atm Machine था। और यह मशीन सबसे पहले भारत के केरल राज्य में लगाई गई थी।
  2. 27 जून सन 1967 में दुनिया का पहला एटीएम Barclays Bank के द्वारा लंदन में लगाया गया था।
  3. ATM मशीन का आविष्कार John Shepherd Barron नें किया था।
  4. atm मशीन के आविष्कार के बाद इसमें 6 अंकों का पिन डालना पड़ता था लेकिन बाद में इसे बदलकर 4 अंकों का कर दिया गया।
  5. ATM को कई अलग अलग देशों में अलग अलग नाम से भी जाना जाता है जैसे की कनाडा में ATM को ABM (ऑटोमेटिक बैंकिंग मशीन) के नाम से जाना जाता है।

FAQ

भारत में कुल कितने एटीएम है?

RBI के मुताबिक मौजूदा समय में भारत देश में लगभग 2,21,658 ATM Machine हैं।

दुनिया में कितने एटीएम हैं?

दुनिया में लगभग 30 लाख से ज्यादा एटीएम मशीन उपलब्ध है और अधिकांश देशों में दिन प्रतिदिन की संख्या बढ़ रही है।

एटीएम का खोज काब हुआ था?

सर्वप्रथम पैसे निकालने वाला पहला एटीएम मशीन 27 जून सन 1967 को लंदन के Barclays Bank में लगाया गया था।

आखिर शब्द

मुझे पूर्ण विश्वास है की अब आप समझ गए होंगे की ATM Mashine Kya Hai और एटीएम का फुल फॉर्म क्या होता है। अगर दोस्तों आपको यह पोस्ट थोड़ा सा भी पसंद आई हो तो आप इस पोस्ट को अपने सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करना। और अगर आपका इस पोस्ट से संबंधित और किसी भी प्रकार की जानकारी चाहिए या आपका इस पोस्ट से संबंधित कोई भी सवाल अथवा सुझाव है तो आप इस पोस्ट के नीचे कमेन्ट भी कर सकते हैं, धन्यवाद।

Leave a Comment